जनहित में जारी एक आवश्यक सूचना गोण्डा लाइव न्यूज एक प्रोफेशन वेब मीडिया है। जो समाज में घटित किसी भी घटना-दुघर्टना , समसामायिक घटना , राजनैतिक घटना क्रम , भ्रष्ट्राचार , सामाजिक समस्या , खोजी खबरे , संपादकीय , ब्लाग , सामाजिक हास्य , व्यंग , लेख , खेल ,कविता ,कहानी , किसान जागरूकता सम्बन्धित लेख आदि से सम्बन्धित खबरे ही प्रकाशित करती है। यदि आप अपना नाम देश-दुनिया में विश्व स्तर पर ख्याति स्थापित करना चाहते है। और अपने अन्दर की छुपी हुई प्रतिभा को उजागर कर एक नई पहचान बनाना चाहते है। तो ऐसे में आप आज से ही नही बल्कि अभी से ही बनिये गोण्डा लाइव न्यूज के एक सशक्त सहयोगी। और अपने आस-पास घटित होने वाले किसी भी प्रकार की घटनाक्रम पर रखे पैनी नजर। और उसे झट लिख भेजिए गोण्डा लाइव न्यूज के Email-news101gonda@gmail.com पर या सम्पर्क करें दूरभाष- 9452184131 -8303799009 पर । सादर धन्यवाद

9 अक्तू॰ 2019

अगले साल भारत पहुंचेगा मोदी का स्पेशल प्लेन एयर फोर्स वन, जिसे मिसाइल भी नहीं भेद सकता


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए बन रहे दो नए स्पेशल एयरक्राफ्ट अगले साल तक भारत पहुंच जाएंगे. कयास लगाए जा रहे हैं कि ये स्पेशल विमान एयर इंडिया की जगह भारतीय वायु सेना के कंट्रोल में रखे जाएंगे. हालांकि इस प्रपोजल पर अब भी चर्चा ही चल रही है.

लंबी दूरी तय करने की क्षमता रखने वाले दो बोइंग 777-300ER विमानों को कस्टमाइज किया जा रहा है और जून 2020 में इनके नई दिल्ली पहुंचने की उम्मीद है. इस विमान में लगी मिसाइल सुरक्षा प्रणाली इसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा उपयोग किए जाने वाले बोइंग 747-200B की तरह सुरक्षित बना देता है.

यह भारत के तीन प्रमुख गणमान्य व्यक्तियों (राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री) को समर्पित पहला विमान होगा. जो आमतौर पर सरकार द्वारा संचालित एयरलाइन, एयर इंडिया के चार्टर्ड विमान से विदेश यात्रा करते हैं. छोटी यात्राओं के लिए वे भारतीय वायु सेना के संचार स्क्वाड्रन के VVIP बेड़े के विमानों का उपयोग करते हैं.

एयर इंडिया की जगह भारतीय वायु सेना को मिल सकता है कंट्रोल

बोइंग 777 विमान स्पेशल प्रोटेक्शन सूट से लैस होने वाला पहला भारतीय विमान भी होगा जो दुश्मन की रडार फ्रीक्वेंसी को जाम कर सकता है. यह विमान चालक दल के हस्तक्षेप के बिना ही उन्नत मध्यवर्ती रेंज की मिसाइल प्रणालियों को बाधित कर सकता है.

अमेरिकी सुरक्षा सहयोग एजेंसी ने इस साल कांग्रेस को एक अधिसूचना में बताया था कि 190 मिलियन अमेरिकी डॉलर का मिसाइल रक्षा प्रणाली सौदा, मिसाइल से जुड़े खतरों में एक मजबूत सुरक्षा क्षमता की सुविधा देगा. इसी अधिसूचना के चलते प्रधानमंत्री मोदी की हैंडलिंग एयर इंडिया से भारतीय वायु सेना को दी जा सकती है.

नए विमान में यह मिसाइल रक्षा प्रणाली लगी है जिसके चलते यह विमान एयर इंडिया के बजाय भारतीय वायु सेना के नियंत्रण में रखने की आवश्यकता हो सकती है. हालांकि साउथ ब्लॉक के एक अधिकारी ने कहा है कि दो बोइंग 777 विमानों को लेने वाली एजेंसी पर एक ठोस निर्णय लिया जाना बाकी है. अगर यह भारतीय वायु सेना में जाता है तो हो सकता है कि प्रधान मंत्री के विमान का कॉल साइन भी एयर इंडिया वन से एयर फोर्स वन में बदल सकता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने वास्तविक नाम का प्रयोग करे । नाइस,थैक्स,अवेसम जैसे शार्ट कमेन्ट का प्रयोग न करे। कमेन्ट सेक्शन में किसी भी प्रकार का लिंक डालने की कोशिश ना करे। यदि आप कमेन्ट पालिसी का प्रयोग नही करेगें तो ऐसे में आपका कमेन्ट स्पैम समझ कर डिलेट कर दिया जायेगा। धन्यवाद...

ब्लॉग-लिस्ट ब्राउसर