जनहित में जारी एक आवश्यक सूचना गोण्डा लाइव न्यूज एक प्रोफेशन वेब मीडिया है। जो समाज में घटित किसी भी घटना-दुघर्टना , समसामायिक घटना , राजनैतिक घटना क्रम , भ्रष्ट्राचार , सामाजिक समस्या , खोजी खबरे , संपादकीय , ब्लाग , सामाजिक हास्य , व्यंग , लेख , खेल ,कविता ,कहानी , किसान जागरूकता सम्बन्धित लेख आदि से सम्बन्धित खबरे ही प्रकाशित करती है। यदि आप अपना नाम देश-दुनिया में विश्व स्तर पर ख्याति स्थापित करना चाहते है। और अपने अन्दर की छुपी हुई प्रतिभा को उजागर कर एक नई पहचान बनाना चाहते है। तो ऐसे में आप आज से ही नही बल्कि अभी से ही बनिये गोण्डा लाइव न्यूज के एक सशक्त सहयोगी। और अपने आस-पास घटित होने वाले किसी भी प्रकार की घटनाक्रम पर रखे पैनी नजर। और उसे झट लिख भेजिए गोण्डा लाइव न्यूज के Email-news101gonda@gmail.com पर या सम्पर्क करें दूरभाष- 9452184131 -8303799009 पर । सादर धन्यवाद

8 दिस॰ 2019

रागी खाने के फायदे और नुकसान

Advantages and disadvantages of eating ragi
Image SEO Friendly

रागी या नाचनी को मुखयतः एशिया और अफ्रीका में उगाया जाता है। रागी क्या है? रागी खाने वाला एक मोटा अन्न है यह अनेक प्रकार के पोषक पदार्थ से युक्त और ऊर्जा प्राप्त करने का काफी अच्छा स्त्रोत है। रागी के फायदे बहुत है नुकसान ना के बराबर पोषक पदार्थों के मामले में रागी काफी आगे है तथा अनाजों में इसका एक मुख्य स्थान है।(Ragi Benefits Hindi) रागी खाने के फायदे जानकर आप इसको खाए बिना नहीं रह पायेगें।

रागी अनाज में अमीनो अम्ल मेथोनाइन पाया जाता है, जो कि स्टार्च की प्रधानता वाले भोज्य पदार्थों में नही पाया जाता। रागी का सेवन करने के लिए रागी साबुत, रागी का आटा, कई अनाजों के मिश्रण के आटे के रूप में भी हमें उपलब्ध होती है। यदि आप रागी को अपने आहार में शामिल करने की शोच रहे है और इसके लाभों को जानना चाहते है तो हम आपको बताते हैं कि आपको क्यों रागी अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
रागी का आटा या तो सूखे हुए दानों को कुचलकर, सुखाकर और पीसकर तैयार किया जाता है। अच्छी बात यह है कि रागी अच्छे कार्बोहाइड्रेट का एक समृद्ध स्रोत है और चूंकि यह पॉलिश होने या संसाधित होने के लिए बहुत छोटा है, इसलिए इसे ज्यादातर शुद्ध रूप में खाया जाता है। “अपने उच्च पोषण मूल्य के कारण, रागी को खाद्यान्न के शिखर पर रखा जा सकता है। रागी अनाज लस मुक्त होता है और ग्लूटेन या लैक्टोज असहिष्णु लोगों के लिए अत्यधिक उपयुक्त होता है। इसके अलावा, यह आसानी से आपके दैनिक आहार का एक हिस्सा बन सकता है जैसे कि चपातियों के रूप में या नाश्ते के लिए दलिया। ” यदि आप इसे बहुत घना पाते हैं, तो इसे 7: 3 के अनुपात में गेहूं के आटे में मिलाएं और इसके साथ ब्रेड या बेक करें।

यदि आप अपने आहार में रागी को शामिल करने के लाभों से अनजान हैं, तो हमारे पास कारण और विशेषज्ञ की सलाह हैं कि आपको सबसे अधिक रागी का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए।

रागी के पोषक तत्व –
Image SEO Friendly
आपको बता दें रागी फाइबर और प्रोटीन, साथ ही साथ कई महत्वपूर्ण सूक्ष्म पोषक तत्वों से समृद्ध है। रागी फाइबर, प्रोटीन, मैंगनीज, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और आयरन का एक अच्छा स्रोत है, साथ ही कई अन्य महत्वपूर्ण सूक्ष्म पोषक तत्व भी हैं। रागी सबसे पौष्टिक अनाज में से एक माना जाता है।

  • 100 ग्राम रागी में औसतन 336 KCal ऊर्जा होती है।
  • रागी में लगभग 5-8% प्रोटीन,
  • 1–2% ईथर के अर्क,
  • 65-75% कार्बोहाइड्रेट,
  • 15–20% आहार फाइबर और 2.5-3.5% खनिज होते हैं।
  • रागी में कैल्शियम (344mg%) और पोटेशियम (408mg%) की सबसे अधिक मात्रा होती है।
  • रागी में वसा की मात्रा कम (1.3%) होती है और इसमें मुख्य रूप से असंतृप्त वसा होता है।
रागी में क्या अधिक है, रागी कैल्शियम में उच्च है, एक खनिज जो हड्डी के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। यह लोहे में भी समृद्ध है, जो आपके शरीर को रक्त का उत्पादन करने में मदद करता है।
रागी खाने के फायदे –
लोगों द्वारा रागी को पीसकर आटे के रूप में या अंकुरित करके भी खाया जाता है। खून की कमी है और कम हिमोग्लोबिन वाले मरीजों के लिए भी यह फायदेमंद होती है। फाइबर और आयरन से भरपूर रागी का सेवन शरीर के लिए कैसे फायदेमंद होता है आइये जानतें हैं।

रागी खाने के फायदे कैल्शियम की कमी पूरा करे – 
रागी का आटा किसी भी अन्य अनाज की तुलना में कैल्शियम के सर्वोत्तम गैर-डेयरी स्रोतों में से एक है। भारत में राष्ट्रीय पोषण संस्थान के अनुसार, 100 ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है। कैल्शियम स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए महत्वपूर्ण है और ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम (एक बीमारी जो हड्डियों को कमजोर करती है) में मदद करती है । “यह बढ़ते बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद है उन्हें यह रागी दलिया के रूप में दिया जा सकता है”।

रागी के फायदे हड्डियों के विकास में मददगार – 
Image SEO Friendly
कैल्शियम की कमी बच्चो से लेकर बूढों दोनों में ही जादा देखी जाती है जिसके लिए हम कैल्शियम की बहुलता वाले अनाज की बात करते है तो कोई अन्य अनाज रागी के करीब नहीं आता है। बढ़ते बच्चों के आहार में रागी कांजी या दलिया शामिल करना इसके लाभ उठाने का एक अच्छा तरीका है क्योंकि इससे हमारी हड्डियों को मज़बूत होने में मदद मिलती है। बाजरा की रोटी, कैल्शियम से भरपूर यह अनाज महिलाओं के स्वास्थ्य का सम्पूर्ण ख्याल भी रखने में सफल होता है।

रागी खाने के फायदे वजन घटाने में – 
Image SEO Friendly
अगर आप वजन कम करने के लिए कम वसा वाले आहार की तलाश कर रहे है तो रागी आपका आंसर होगी, इसमें वसा अन्य अनाजों से कम कम होती है और ये असंतृप्त रूप में होती है। आप चाहे तो रागी को रोटी या चावल की जगह उपयोग कर सकते है इसमें ट्रिप्टोफन (tryptophan) नामक एमिनो एसिड भी होता है जो भूख को कम कर देता है। जिसे बजन को बढ़ने से रोका जा सकता है रागी का आटा खाने से हमें भूख कम लगती है और अगर इसका सेवन सुबह किया जाये तो आपका पेट पुरे दिन भरा रहेगा।

आहार फाइबर संयोजन की उच्च मात्रा पेट को लंबे समय तक भरा रखती है और अवांछित भूख को रोकती है। यह बदले में कम से कम भूख और वजन घटाने की ओर जाता है। “रागी शरीर में इंसुलिन को सक्रिय करके आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। जैसा कि मैंने पहले कहा, इसका सुबह के समय सेवन किया जाता सकता है। रागी प्रोटीन और फाइबर में उच्च है, जो दोनों आपके वजन घटाने के प्रयासों में सहायता कर सकते हैं।

रागी के लाभ मधुमेह की बीमारी में – 
Image SEO Friendly
मधुमेह से ग्रस्त व्यक्ति अपने शुगर में ग्लूकोस के स्तर को कम करने के लिए रागी का उपयोग कर सकते है इसमें उच्च पॉलीफेनोल और फाइबर की उच्च मात्रा पाई जाती है बाजरा की रोटी (bajre ki roti), रागी में फाइटोकेमिकल्स (phytochemicals) होते हैं, जो खाना पचाने की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं।

अनाज का बीज कोट चावल, मक्का या गेहूं की तुलना में पॉलीफेनोल और आहार फाइबर में प्रचुर मात्रा में होता है। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड क्रेविंग को कम करता है और पाचन गति को बनाए रखता है, फलस्वरूप, रक्त शर्करा को सुरक्षित सीमा में रखता है। “अपने पूरे दिन को ट्रैक पर रखने के लिए इसे अपने सुबह के भोजन में शामिल करना या दोपहर के भोजन के लिए सबसे अच्छा है।”

रागी अनाज का सेवन आप सुबह और दोपहर के समय कर सकते है जिससे आपका sugar लेवल सही से नियंत्रित किया जा सकता है

रागी खाने के फायदे एनीमिया दूर करने के लिए –
Image SEO Friendly
इसमें आयरन की उच्च मात्रा पायी जाती है अंकुरित रागी खाने के फायदे और भी अधिक होते है क्योकि जब रागी अंकुरित हो जाता है तो इसमें विटामिन c का लेवल बढ़ जाता है जिससे खाने में पाए जाने वाले आयरन का अवशोषण बढ़ जाता है जिससे खून की कमी (एनीमिया से छुटकारा) दूर होती है।

रागी प्राकृतिक आयरन का एक उत्कृष्ट स्रोत है और इस प्रकार यह एनीमिया के रोगियों के लिए और कम हीमोग्लोबिन स्तर वाले लोगों के लिए भी एक वरदान है। एक बार रागी को अंकुरित करने से, विटामिन सी का स्तर बढ़ जाता है और रक्त प्रवाह में लोहे के आसान अवशोषण की ओर जाता है। लोहे के इष्टतम अवशोषण के लिए, आप इसका सेवन रागी डोसा या रागी बॉल्स के रूप में कर सकते हैं।

रागी के लाभ कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक – 
रागी का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल के उच्च स्तर को भी कम होते हुए देखा गया है। इसमें एमिनो एसिड (amino acid) मौजूद होते हैं, जो लिवर (liver) से अतिरिक्त वसा निकालकर कोलेस्ट्रोल का स्तर कम कर देते हैं। इसमें थ्रेओनीन एमिनो एसिड (threonine amino acid) भी होता है, जो लिवर में वसा जमने नहीं देते और कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम कर देते हैं।
विकास के अपने प्रारंभिक दौर में, जब रागी हरा होता है, यह उच्च रक्तचाप को रोकने में मदद कर सकता है।

प्रोटीन या अमीनो अम्ल के लिये रागी के फायदे – 
शरीर की सामान्य क्रियाशीलता तथा मरम्मत के लिये आवश्यक अमीनो अम्ल के मामले में रागी काफी धनी है। रागी के फायदे शरीर में नाइट्रोजन सन्तुलन के लिये भी सहायक है।

रागी का दलिया शिशुओं के लिए है उपयोगी –
Image SEO Friendly
ऐसा माना जाता है कि रागी बेहतर पाचन को बढ़ावा देता है। शिशुओं को माँ का दूध छुड़ाकर कुछ खिलाने की प्रक्रिया के दौरान रागी पाउडर का उपयोग किया जाता हैं। रागी शिशुओं में दूध की कमी को दूर करता है

रागी खाने के फायदे त्वचा को रखें जवां –
Image SEO Friendly
आप भी जवान और स्वस्थ रहना चाहते है तो रागी का सेवन आपको सबसे पहले रखना चाहिए क्योकि इसमें मेथियोनीन और लाइसिन एमिनो एसिड पाए जाते है जो त्वचा को जवां और झुर्रियों से बचाते है विटामिन D जो हमें सूर्य से प्राप्त होता है वो रागी में पाया जाता है जो कैल्शियम के सही से कार्य करने के लये सहायक होता है और स्किन के ग्लो को बढ़ता है।

रागी युवा त्वचा को बनाए रखने के लिए अद्भुत काम करता है। इसमें मौजूद मेथिओनिन और लाइसिन (Methionine and Lysine ) जैसे महत्वपूर्ण अमीनो एसिड त्वचा के ऊतकों को झुर्रियों और सैगिंग से कम प्रभावित करते हैं। रागी भी विटामिन डी के बहुत कम प्राकृतिक स्रोतों में से एक है जो ज्यादातर धूप से प्राप्त होता है। विटामिन डी कैल्शियम के लिए एक वाहक अणु है।

रागी के स्वास्थ्य लाभ शरीर को आराम पहुंचाए – 
चिंता, अवसाद और अनिद्रा की स्थितियों से निपटने में रागी का नियमित सेवन अत्यधिक लाभकारी होता है। एंटीऑक्सिडेंट, मुख्य रूप से ट्रिप्टोफैन और अमीनो एसिड (Tryptophan and amino acids) की उपस्थिति, प्राकृतिक आराम करने वालों की तरह काम करने में मदद करती है। 2000 में मेड इंडिया द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, रागी का सेवन माइग्रेन के लिए भी उपयोगी है।

रागी का सेवन करने से शरीर प्राकृतिक रूप से चिंता और तनाव से मुक्त हो जाता है। रागी का सेवन करने से आपको बेचैनी और नींद ना आने जैसी समस्याएं भी नहीं सताती हैं। रागी माइग्रेन (migraine) होने की स्थिति में भी काफी प्रभावशाली सिद्ध होती है। रोज रागी के सेवन से चिंता, तनाव से छुटकारा मिलता है। दरअसल इसमें एमिनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो प्राकृतिक तरीके से आपको तनाव मुक्त रखतें हैं।

रागी के नुकसान –
रागी के फायदे (Ragi Benefits hindi) बहुत है यह एक अच्छा पोषक आहार है, जिससे हमें अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। लेकिन रागी का सेवन करने से अधिक मात्रा में ना करें, क्योंकि इससे शरीर में अधिक मात्रा में ओक्सालिक एसिड (oxalic acid) का संचार होता है।

अधिक मात्रा में रागी का सेवन करने से बचे खासकर किडनी (kidney) में पथरी वाले मरीज़ों के लिए इसका सेवन सही नहीं करना  है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अस्वीकरण-
आवश्यक सूचना-कृप्या ध्यान दे ! गोण्डा लाइव न्यूज पर दी हुई संपूर्ण जानकारी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गयी हैं। हमारा आपसे विनम्र निवेदन हैं की किसी भी सलाह अथवा उपाय को आजमाने से पहले अपने नजदीकी विषय विशेषज्ञ अथवा चिकित्सक से एक बार अवश्य संपर्क करे। किसी भी प्रकार या विषय की जानकारी या स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी का आशय एंव इस वेबसाइट का उद्देश है कि आपको विभिन्न विषयो से जुडी जानकारिया सहित स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और विभिन्न विषयो से जुडी जानकारियो सहित स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। आपके सम्बन्धित विषय विशेषज्ञ या चिकित्सक को आपकी विचारो व सेहत के बारे में इस वेबसाइट की अपेक्षा बेहतर जानकारी होती हैं और उनकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है ।


कृपया अपने वास्तविक नाम का प्रयोग करे । नाइस,थैक्स,अवेसम जैसे शार्ट कमेन्ट का प्रयोग न करे। कमेन्ट सेक्शन में किसी भी प्रकार का लिंक डालने की कोशिश ना करे। यदि आप कमेन्ट पालिसी का प्रयोग नही करेगें तो ऐसे में आपका कमेन्ट स्पैम समझ कर डिलेट कर दिया जायेगा। धन्यवाद...